जानें, फिल्म का नाम पिंक क्यों रखा गया?

film pinkमुंबइ। सुजित सरकार की फिल्म पिंक को लोगोने काफी सराहा हैं। इस फिल्म में हमारे देश में महिला के प्रति कैसा द्रष्टिकोण रखा जाता है ये दिखाया गया हैं। सुजित सरकार से जब फिल्म के नाम के बारे में पूछा गया तो उन्होने बताया था कि लोग फिल्म देखने के बाद खुद ही समज जाएंगे की फिल्म का नाम पिंक क्यु रखा गया।

लेकिन फिल्म देखने के बाद भी लोगो को फिल्म का नाम पिंक क्यु रखा गया ये समज मे नही आया। दरअसल पिंक शब्द का एक अर्थ प्रोसिट्युशन या वेश्यावृति से भी जुडा हुआ हैं। एक वेश्या या प्रोसिट्युट को खरीदने के बाद उससे रिश्ता बनाने के लिए उसकी हां या ना का इंतजार नही किया जाता। इसी तरह हमारे देश मे महिला को कुछ लोग जैसे वेश्या या प्रोस्टीट्युट ही समज लेते हैं। उनकी हां या ना का इंतजार नही करते और जबरन रिश्ता बनाने की कोशिश करते हैं।

सुजित ने इस फिल्म के जरिये समाज के इस द्रष्टिकोण की तरफ एक सवाल किया हैं। क्या एक ओरत की अपनी इच्छा का कोइ मान नही होता? उसकी मरजी मायने नही रखती? साथ ही फिल्म में हमारे समाज में औरत और मर्द के लिये समानता का मुद्दा भी उठाया गया हैं। महिला सशक्तिकरण पर बनी इस फिल्म में तापसी तन्नु और अमिताभ बच्चन ने बहेतरीन अदाकारी की हैं।

214 total views, 1 views today